आर्थिक चिंता से मुक्ति के कदम

मैंने अपने पहले की पोस्ट चिंतामुक्त जीवन में चिंतामुक्त जीवन जीने के लिए कुछ जरूरी कदमो का वर्णन किया था.उस पोस्ट में मैंने आर्थिक चिंता से मुक्ति के उपायों का विस्तृत वर्णन नहीं किया था.क्योकि यह उपाय स्वयं में कई बड़े कदमो का समावेश है.

आज के अर्थयुग में अर्थ की ही प्रधानता है.सभी के जीवन में आर्थिक समस्याएं ही सबसे बड़ी समस्याएं है.हमारे यँहा एक कहावत भी है कि मनुष्य की सभी समस्याओ के मूल में तीन ही कारण है “जर, जोरू और जमीन”. जर से यँहा मतलब धन से है.जर और जमीन दोनों ही आर्थिक चिंताए और समस्याएं है.मतलब की मनुष्य के जीवन की दो-तिहाई समस्या आर्थिक रूप से जुडी हुई है.

अब सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि आर्थिक चिंता से निजात कैसे पाए या इसका प्रकोप कम कैसे करे? जीवन में आर्थिक चिंतावो से सम्पूर्ण मुक्ति संभव नहीं है.क्योंकि मनुष्य स्वभावतः ही महत्वाकांक्षी होता है.एक लक्ष्य पाने के बाद वह दूसरे लक्ष्य की तरफ भागता है.मतलब की जीवन में अगर एक मकान, फ्लैट या कार हो गया तो दूसरा उससे अच्छा चाहिए.या कुछ और भी पहले से बेहतर.

तो हम आर्थिक चिंता को कम से कम रखने का प्रयास करते है.इसके लिए सबसे जरुरी है अपनी आमदनी का सही उपयोग करना.उसे सही जगह इन्वेस्ट करना और सही समय पर करना.मैं कुछ कदमो का वर्णन करता हूँ जिससे हमें अपने लक्ष्य की प्राप्ति में काफी सहायता मिलेगी.

आर्थिक चिंता से मुक्ति के कदम:-

१.EMI पर प्रॉपर्टी लेने से बचे.यह आपकी कमाई का अधिकतर हिस्सा खा जाता है.अगर आप प्रॉपर्टी लेना ही चाहते है तो इसकी EMI कम से कम रखे. साथ ही यह भी प्रयास करे की यह लोन सीमित समय के लिए ही हो.

२.सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) जितनी जल्दी शुरू कर सकते है ,करे.

३. जब तक कार की जरुरत ना हो तब तक कार ना ख़रीदे.अगर आप कार का उपयोग रोज करना चाहते तभी कार ले.

४. कुछ पैसे म्यूच्यूअल फण्ड में भी इन्वेस्ट करे.ट्रडिशनल सेविंग प्लान जैसे PPF,फिक्स्ड डिपाजिट, Life Insurance में इन्वेस्ट करने से अच्छा है कि Mutual Fund और सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में पैसे इन्वेस्ट करे.इससे आप को
बेहतर रिटर्न्स मिलेंगे.

५. अपने और अपने परिवार के लिए Health Insurance जरूर ले.

६.अपने सेविंग अकाउंट में ज्यादा पैसे रखने से बचे.पैसे को इन्वेस्ट करना सीखे.

७.शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करने से पहले थोड़ी जानकारी जरूर करे.पहले थोड़ा पैसा ही शेयर मार्किट में लगाए.फिर जब आत्मविश्वास बढ़ जाये और ट्रेंड हो जाए फिर ज्यादा पैसे लगा सकते है.इस ऑप्शन को आप आय के एक नए श्रोत की तरह भी उपयोग कर सकते है.

अगर आप रेगुलर इन्वेर्स्टर नहीं बनना चाहते तो अपने शेयर पर नजर बनाये रखे और इसे खरीदते और बेचते रहे.लम्बे समय तक पड़े  रहने ना दे.

८.अगर आप शेयर मार्किट में पैसा इन्वेस्ट कर रहे है तो इसके लिए एक अलग बैंक अकाउंट रखे.इससे आप को बहुत सुविधा होगी और आप अपने इन्वेस्मेंट पर पूरी नजर रख पाएंगे.साथ ही टैक्स भरने में भी सुविधा रहेगी.

९. Insurance में कभी भी बेहतर रिटर्न्स के लिए इन्वेस्ट ना करे.यह इन्वेस्टमेंट के लिए नहीं है.यह केवल आपके रिस्क कवर के लिए है.बेहतर है कि आप एक बड़े अमाउंट का टर्म प्लान ले.बचे पैसे से एक सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान(SIP) शुरू कर दे.

मतलब अगर आप ३००० rupees प्रति महीने का अच्छे रिटर्न्स के लिए Insurance प्लान ले रहे है तो बेहतर की एक १००० rupees का टर्म प्लान ले और बाकि के २००० का SIP .१००० के टर्म प्लान में आप को बहुत अच्छा और बहुत ज्यादा का रिस्क कवर मिल जायेगा.

१०.क्रेडिट कार्ड तो बनवाये ही नहीं.अगर बनवा लिया है तो काफी सतर्कता से इसका उपयोग करे.मैंने अपने साथ के कई लोगो को क्रेडिट कार्ड के बिल को भरने के लिए भी EMI बनवाते देखा है.

११.अपने मरने से पहले सभी क्रेडिट कार्ड जरूर से कैंसिल करवा दे.अपने परिवार को अपने सभी इन्वेस्टमेंट और लायबिलिटी की जानकारी जरूर से दे.

१२. अपने फ्यूचर इन्वेस्टमेंट से रिलेटेड कुछ प्लान जरूर करके रखे.जैसे हायर एजुकेशन, मैरिज,घर और पेरेंट्स को सपोर्ट.

१३.कभी दिखावे के चक्कर में ना पड़े.कभी ये ना सोचे की आप का महंगा मोबाइल,कार अथवा प्रॉपर्टी आप को अमीर बनाती है.आप को अमीर बनाती है आप की सेविंग्स और आप की इन्वेस्टमेंट.तो दिखावा बंद करे और इन्वेस्टमेंट शुरू करे.

१४.एक इमरजेंसी फण्ड जरूर रखे अथवा कुछ पैसे ऐसे इन्वेस्ट करे कि जब आप को जरुरत हो तब आप उसका उपयोग कर पाये.

१५.अपनी सेहत का ध्यान रखे.अच्छी सेहत भी एक अच्छा इन्वेस्टमेंट है.

जय हिन्द